27 Jul
2019

जुडिशरी एग्जाम स्कोर बूस्टर 38 सिविल प्रक्रिया संहिता 1908 से जुडे महत्वपुर्ण वाद (हिन्दी में) CPC 1908 CASE LAWS

सिविल प्रक्रिया संहिता 1908 से जुडे कुछ महत्वपुर्ण मुख्य मामलें


(1) वी. एन. श्रीधरन बनाम भाष्करन AIR 1986 केरल

इसमें राजीनामे के आधार पर पारित डिक्री को डिक्री माना गया |

(2) चरनलाल बनाम श्री लालबहादुर शास्त्री हरिजन सामूहिक कृषि सहकारी संस्था लालिया, बड़ोदी AIR 1980 म. प्र.

में संविधान के अनुच्छेद 226 के अधीन उच्च न्यायालय द्वारा पारित आदेश डिक्री नहीं माना गया |

(3) एम्पलाइमेंट ऑफिसर मण्डबा बनाम एस. एस.नाथन AIR 1986 कर्नाटक

में बताया गया उत्तराधिकार प्रमाण-पत्र न तो डिक्री है एवं न ही आदेश इसका निष्पादन आदेश 21 से न हो सकेगा |

(4) देस पान बनाम ओम प्रकाश AIR 1986 पंजाब व हरियाणा

में स्पष्ट किया गया कि परिसीमा के आधार पर अपील के ज्ञापन को खारिज करने वाला आदेश डिक्री नहीं माना जाएगा |

(5) मुक्तरेदेवी बनाम मणिपुर राज्य AIR 1978

गौहाटी में कहा गया साक्ष्य व प्रमाण के अभाव में वाद को खारिज करने का निर्णय चूंकि सभी विवादित विषयों को निपटाता है. अतः आज्ञप्ति है |

(6) महेश चन्द्र बनाम रामरतन 51 I.C.

में कहा गया प्रारम्भिक आज्ञप्ति उन मामलों में ही पारित की जा सकती है, जिनके बारे में संहिता में स्पष्ट प्रावधान है |

(7) मोतीलाल बनाम राजाराम 1962 एम. पी. एल.

जे. में कहा गया किसी मामले में एक से ज्यादा प्रारम्भिक या अन्तिम आज्ञप्ति पारित नहीं हो सकती |

(8) एस. एम. लियाक बनाम रामजी AIR 1952

इलाहाबाद में बताया गया धारा-2(10) के अर्थों में निर्णीत ऋणी में निर्णीत ऋणी का वैध प्रतिनिधि शामिल नहीं है |

(9) फर्म छोटाभाई जेठाभाई एण्ड कम्पनी बनाम स्टेट ऑफ एम. पी. AIR 1953 एल. सी.

में भूमि पर खड़ी फसल को चल सम्पत्ति माना गया |

(10) कोलमाइन्स प्रोविडेन्ट फण्ड कमिश्नर बनाम रमेश चन्द्र झा AIR 1990 एस. सी.

में कोयला खान भविष्य निधि आयुक्त को लोकपदाधिकारी माना गया |

(11) वी. पदनाभन नैयर बनाम केरल स्टेट

इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड AIR 1989 केरल में विद्युत् बोर्ड के असिस्टेंट इंजीनियर को लोकपदाधिकारी नहीं माना गया |

(12) प्राणकृष्ण बनाम जदुनाथ C.W.N.

में हस्ताक्षर में मोहर है वह माना गया |

(13) वेंकटगिरि वनाम शेख AIR 1914 मद्रास

में कहा गया राजस्व न्यायालय भी व्यवहार न्यायालय है |

(14) विजय नारायण सिंह व अन्य वनाम स्टेट ऑफ यू. पी. AIR 1970 इलाहाबाद

में कहा गया चकबन्दी न्यायालय का उद्देश्य भूमि विकास करना है. अतः ये राजस्व न्यायालय नहीं है |

(15) गुरुवचन सिंह और अन्य बनाम श्रीमती गुरदयाल कौर व अन्य AIR 1982 राजस्थान

व्यवहार प्रकृति के वाद से सम्बन्धित है |

(16) सैयद फरजन्द अली बनाम नासिर वेग AIR 1980 इलाहाबाद

में स्पष्ट कहा गया मस्जिद में आमीन शब्द का उच्चारण सिविल प्रकृति का मामला है |

(17) यूनियन ऑफ इण्डिया वनाम सेठ भगवान दास शैक्षणिक संस्थान AIR 1992 दिल्ली

में कहा गया जब स्कूल के निदेशक पर कार्यवाही के प्रश्न में अपील का प्रावधान नहीं है, तब यह सिविल प्रकृति का है.

(18) ए. मंगलनाथ स्वामी मन्दिर और अन्य का मामला

में पूजा के अधिकार के वाद को सिविल वाद माना गया |

(19) ऊषावेन नवीनचन्द्र त्रिवेदी और अन्य बनाम भाग्यलक्ष्मी चित्र मन्दिर और अन्य AIR 1978 गुजरात

में बताया गया जय सन्तोषी मा फिल्म विवाद सिविल प्रकृति का वाद नहीं है |

WWW.KRKAWCLASSESKOTA.COM

मॉक टेस्ट पासवर्ड प्राप्त करने के लिए नीचे दी गयी इमेज पर क्लिक करें

DEMO

हमारे पिछले लीगल बज्ज ऑनलाइन मॉक टेस्ट

SUBSCRIBE LEGAL BUZZ UPDATES VIE EMAIL

Enter your email address to subscribe to this website update and receive notifications of new posts by email.

Join 1,587 other subscribers

लीगल बज़्ज़ पाठशाला 🈴

LAW 📺

 

GK 📺

  • 63,720 hits